आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ने पीएम मोदी को सुनाई एक बच्चे की कहानी, हुए हैरान

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने मंगलवार को देशभर के एएनएम, आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं से बातचीत की। इस दौरान पीएम आंगनवाड़ी कार्यकर्ता की एक बच्चे को जिंदा करने की कहानी सुनकर हैरान रह गए और कार्यकर्ता की जमकर तारीफ की। पीएम से लाइव बातचीत करते हुए झारखंड के सरायकेला के उर्माल की रहने वाली आंगनवाड़ी कार्यकर्ता मनीता देवी ने कहा कि उसने प्रसव के दौरान आपातकालीन सेवा प्रदान कर मां और बच्चे की जान बचाई। मनीता ने कहा कि उन्हें 27 अगस्त 2018 को उस महिला की प्रसव पीड़ा के बारे में सुना था। जब तक वह उसके घर पहुंची तब तक उसका प्रसव हो चुका था। प्रसव के बाद बच्चा रो नहीं रहा था तो घर वालों को लगा कि वह मर गया है। घर वाले मांगने पर भी बच्चे को दे नहीं रहे थे जब उन्होंने जिद की तो उन्हें बच्चा दिया गया। वो बच्चा जीवित था और उसकी धड़कनें चल रही थीं। इसके बाद मनीता ने एक पाइप की सहायता से बच्चे के नाक और मुंह से पानी निकाला, जिसके बाद वह रोने लगा। मनीता की बात सुनकर पीएण ने ताली बजाई और कहा एक नवजात शिशु को परिवार वालों ने मृत मान लिया था। नवजात केयर प्रशिक्षण का उपयोग कर मनीता देवी ने उपचार प्रारंभ किया, एंबुलेंस के माध्यम से स्वास्थ्य केंद्र ले गईं। वह भारत की सच्ची बेटी हैं।
पोषण पर ध्यान दे रही है सरकार: कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पीएम ने कहा सरकार पोषण और स्वास्थ्य की गुणवत्ता जैसे मुद्दों पर ध्यान देगी। आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं के साथ मिलकर सुपोषण स्वास्थ्य मेले का आयोजन होता है। मेले के दौरान कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षण, ग्राम स्तर पर सामुदायिक बैठकों का आयोजन और कुपोषित बच्चों के घर भ्रमण करते हुए परामर्श का काम।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here