पटवारी ने लिखा खिलौना समझ रखा है क्या हमें?

पटवारी ने लिखा खिलौना समझ रखा है क्या हमें?

 

patwariमध्यप्रदेश पटवारी संघ के प्रांताध्यक्ष उपेन्द्र सिंह बाघेल ने बताया कि राजस्व मंत्री जी ने एक अच्छी पहल करते हुए हमारी बरसो से लम्बित वेतनमान की मांग को पूरा करने के लिए लिखित कार्यवाही को नोट शीट लिखी एक पत्र हमे प्रथक से दिया और छः माह में हमे अप्रेल तक 2800 ग्रैड पे देने हेतु आश्वत किया जिससे हम सहमत भी थे । साथ ही मोबाइल पर उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी से बात करवाई जिसमें उन्होंने अपने बयान पर खेद प्रकट करते हुए कहा कि मेरी भावना किसी को आहत करने की नहीं है। इस पर पटवारी संघ द्वारा हड़ताल खत्म करने की घोषणा राजस्व मंत्री गोविंद सिंह राजपूत के समक्ष मिडिया मैं कर दी थी। किन्तु उच्च शिक्षा मंत्री जीतू पटवारी जी द्वारा पुनः माफी नही मांगने ओर अपनी बयान पर कायम रहने का बयान मिडिया मैं जारी किया इससे पटवारियो के सीने में फिर से आग भड़की है हमारे आत्म सम्मान को ठेस पहुचाने का काम मंत्री जीतू पटवारी जी बार बार कर रहे है ये ठीक नही है ।

भोपाल, पटवारी संघ द्वारा हड़ताल ख़त्म की घोषणा के कुछ ही घंटे में एक बार फिर हड़ताल पर जाने की तैयारी शुरू  कर दी गई है, बजह में बताया जा रहा है मंत्री जीतू पटवारी ने वीडियो जारी कर कहा है कि उन्होंने कोई माफी नहीं माँगी है और अपने वे अभी भी अपने बयान पर कायम हैं. पूर्व में हड़ताल ख़त्म के समय पटवारी संघ बता रहा था कि राजस्व मंत्री जी ने माफी मांग ली है, और ग्रेड पे 2800 के लिए आश्वासन दिया है, इस आश्वासन और किसान हित में हड़ताल वापिस ले रहे हैं. जबकि राजस्व मंत्री ने कहा था यह समय हड़ताल का नहीं है, हमने पटवारी संघ को समझाया और वह किसान हित में वापिस हो गए. राजस्व मंत्री द्वारा भी माफी मांगने जैसी कोई बात नहीं कही गई.

पथरिया सागर से पटवारी आकाश मिश्रा ने पटवारी संघ प्रांताध्यक्ष उपेन्द्र सिंह के साथ पूर्व अध्यक्ष प्रकाश माली का वीडियो शेयर किया है. वीडियो में पटवारी संघ प्रांताध्यक्ष उपेन्द्र सिंह मीडिया को संबोधित करते हुए बता रहे हैं कि उन्होंने किसान हित में हड़ताल ख़त्म की घोषणा के बाद मंत्री जीतू पटवारी का वीडियो देखा है जिसमें उन्होंने साफ़ शब्दों में कहा है पटवारियों से कोई माफी नहीं मांगी है और वह अपने बयान पर कायम हैं. वह किसान हितैषी बिलकुल नहीं हैं, पता नहीं वह क्या चाहते हैं, इससे पटवारी सम्मान को ठेस पहुंची है, इसलिए हड़ताल जारी रहेगी.

क्यों हड़ताल वापिस शुरू हो रही है ? सोशल मिडिया में मचा उठ रही थी आवाज

खबर आते ही कि पटवारी संघ सम्मान की बात से समझौता कर ग्रेड पे 2800 के आश्वासन पर हड़ताल से वापिस हो गई है, लेकिन यह बात पटवारी संघ से जुड़े सदस्यों को समझ नहीं आई. सदस्यों द्वारा जानकारी जुटाई गई तो पता चला कि नवीन पटवारियों पर सरकार दबाब बना रही है, वह टूट सकते हैं. यह जानकारी के बाद पटवारी संघ ने यह मान कर कि ऐसे में हड़ताल मुश्किल होगी, हड़ताल ख़त्म कर दी गई है तब सीनियर पटवारियों द्वारा पटवारी संघ नेताओं पर दबाब बनाया गया.

सोशल मीडिया पर लिखा गया खिलौना समझ रखा है क्या हमें? आप लोग कायर हो. पुराने अनुभवों के बावजूद भी आपको कैसे विश्वास हो गया कि 6 महीने बाद हमारी मांगें मानी जाएंगी? शर्म आना चाहिए आपको की नीचे के स्तर के पटवारियों की बिना परमिशन के आपने हड़ताल खत्म करवा दी? हमारी भावनाओं के साथ ऐसा खिलवाड़? जितनी बेइज्जती नेताओं ने नहीं की, उससे ज्यादा आपने करा दी हमारी.

सूत्रों के अनुसार ऐसी स्थिति में पटवारी संघ का एक गुट खुद आगे होकर हड़ताल पर डटे रहने की घोषणा करने वाला था, इस बीच मंत्री जीतू पटवारी का वीडियो सामने आ गया. ऐसे में पटवारी संघ के अन्य गुटों के नेताओं के पास हड़ताल वापिस शुरू करने की विचार कर रहा है.

सोशल मीडिया पर लिखा गया खिलौना समझ रखा है क्या हमें? आप लोग कायर हो. पुराने अनुभवों के बावजूद भी आपको कैसे विश्वास हो गया कि 6 महीने बाद हमारी मांगें मानी जाएंगी? शर्म आना चाहिए आपको की नीचे के स्तर के पटवारियों की बिना परमिशन के आपने हड़ताल खत्म करवा दी? हमारी भावनाओं के साथ ऐसा खिलवाड़? जितनी बेइज्जती नेताओं ने नहीं की, उससे ज्यादा आपने करा दी हमारी.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here